Condolence – Padam Shree Nilambar Dev Sharma

0
326

पद्‌मश्री प्रो. नीलांबर देव शर्मा  इक विद्वान, शिक्षाविद् , डोगरी दे वरिश्ठ लेखक, डोगरी संस्था जम्मू दे साबका प्रधान अज्ज दपैह्‌री परैंत्त 3:30 बजे इस दुनिया चा साढ़े कोला विदा होई गे। शर्मा जी किश ब’रें दे दिल्ली च अपने रौहा दे हे ।

शर्मा जी दा डोगरी साहित्य, डोगरा संस्कृति गी नमुल्ला जोगदान ऐ ते डोगरी संस्था दे ते ओह् इक मज़बूत थ’म्म हे । इ’नें डोगरी साहित्य दी सेवा करदे होई क्हानी, यात्रा-निबंध, अनुवाद, डोगरी साहित्य दा इतिहास आदि विशे पर लिखियै डोगरी भाशा ते इसदे साहित्य दी पन्छान राश्ट्री ते अंतरराश्ट्री स्तर पजाई । इं’दिया डोगरी च लिखी दियां कताबां—चेते: किश खट्टे, किश मिट्ठे; रिश्ते ; क्हानी दी तलाश; अंग्रेजी च An Introduction to Modern Dogri Literature ते अनुवादें दे इलावा डोगरी साहित्य पर अंग्रेज़ी च लिखे दे उं’दे लेख ते शोध-कम्म डोगरी साहित्य दा अनमुल्ला खजाना न ।

सन् 1961 च जम्मू कश्मीर अकैडमी ऑफ, आर्ट, कल्चर ऐंड लैंग्वेजिज़ दी स्थापना होने पर पैह्‌ले सैह-सचिव दे तौर पर इं’दी नियुक्ति होई ते इं’दे गै यत्नें-प्रयत्नें करी जम्मू च अकैडमी दे दफ्तर दी स्थापना होई सकी ही। ते फ्ही सन् 1966 च अकैडमी दे सचिव बने । सन् 1969 च शर्मा होर साहित्य अकादमी, नमीं दिल्ली दे डोगरी अड्वायज़री बोर्ड दे पैह्‌ले कन्वीनर बने। इ’यां केईं नेह् म्हत्तवपूर्ण औह्‌दें पर शर्मा जी ने अपनियां बड़मुल्लियां सेवा प्रदान कीतियां ।

अज्ज डोगरी दे इक सोह्‌गे-स्याने, सुलझे दे कर्मठ ते महान शख़्सियत आह्‌ले साधक, प्रो. शर्मा हुंदे निक्खड़ी जाने पर डोगरी भाशा ते डोगरी संस्था गी जो घाटा होआ ऐ, उसदी कोई पूर्ति नेईं है। डोगरी साहित्य दे खेतर च इं’दे अनमुल्ले योगदान गी ते इ’नेंगी इक मार्गदर्शक दे तौर पर म्हेशा चेतै रक्खेआ जाह्‌ग ।

अस सब इस दुख दी घड़ी च उं’दे परिवार कन्ने शामल आं । अस सब परम पिता परमात्मा अग्गें प्रार्थना करने आं जे शर्मा जी दी दि’ब्ब आत्मा गी शांति ते इस सदमे गी बर्दाश्त करने आस्तै उं’दे परिवार-जनें गी हिम्मत देन ।

ॐ शांति ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here